आपने गौर किया होगा वेट लॉस के लिए लोग खुद को लगभग टॉर्चर करते हैं. चावल, मिठाई, घी-तेल सब छोड़ देते हैं – फिर भी उनका वजन कम होने की बजाए बढ़ता जाता है. कहते भी रहते हैं वो तो कुछ ऐसा वैसा खाते भी नहीं फिर भी उनका वजन कम होने का नाम नहीं लेता.
मोटापा दुनिया भर में सबसे बड़ी समस्या है. ये समस्या इसलिए भी बड़ी है क्योंकि इससे इंसान के व्यक्तित्व पर तो फर्क पड़ता ही है – ये ढेर सारी बीमारियों की वजह भी बनता है.

बैलेंस्ड डाइट जरूरी है
वेट लॉस को लेकर तरह तरह के प्रयोग हो रहे हैं. जरूरी नहीं कि एक उपाय किसी पर असर किया तो दूसरे पर भी वही काम करेगा. हर इंसान की बनावट अलग होती है. आपने ऐसे लोग भी देखे होंगे जो खूब घी, मक्खन और मिठाई खाते रहते हैं फिर भी हमेशा स्लिम ट्रिम नजर आते हैं. ऐसा उनकी खास बनावट के चलते होता है. इसका उल्टा भी होता है कि तमाम परेहज के बावजूद मोटापा पीछा नहीं छोड़ता.

सबसे पहले तो ये जरूरी है कि खाने में कुछ छोड़ने की बजाए सब कुछ खाने का फैसला किया जाए. सब कुछ से मतलब उत्पात नहीं है. जरूरत से अधिक हर चीज बुरी होती है. फायदा पहुंचाने वाली चीज भी ज्यादा इस्तेमाल की जाए तो नुकसान होना निश्चित है.

सबसे जरूरी है कि मोटापे से बचने के लिए बैलेंस्ड डाइट ली जाए. हर चीज उचित मात्रा में. न कम न ज्यादा. हां, किसी भी सूरत में ओवर डाइट जैसी स्थिति न बने. कोई भी चीज तब तक न खाएं जब तक भूख का अहसास न हो – और फिर उतना ही कि हाजमे की गोली की जरूरत न पड़ जाए.

संभावित दवाएं – अगर वजन सामान्य से ज्यादा है तो वो किसी बीमारी की वजह से हो सकता है. अगर सामान्य से कम है तो भी किसी न किसी रोग की वजह से ही होगा. इसलिए जरूरी है कि उस खास रोग के लिए उपाय किये जाएं – बाकी समस्या अपनेआप खत्म हो जाएगी.

+ Ignatia – अगर डिप्रेशन के चलते वजन बढ़ रहा हो या फिर वजन बढ़ने से इंसान मानसिक तनाव के दौर से गुजर रहा हो और निराशा का भाव समा गया हो. इसके अलावा अगर symptom संकेत दें तो Natrum Mur की भी मदद ली जा सकती है.

+ Calcarea Carb – अगर हॉर्मोन की गड़बड़ी से वजन बढ़ रहा हो. साथ ही, Lycopodium पर भी विचार करना चाहिए.

+ Phytolacca Berry – वेट लॉस के लिए काफी उपयोगी है. इसके अलावा Alumina, Antim Crud, Graphites, Nux Vomica, Pulsatilla और Sepia दवाएं भी आवश्यकतानुसार ली जा सकती हैं.

एक विशेष बात पर जरूर ध्यान देना चाहिए – गर्भावस्था में वजन बढ़ने के इलाज के बारे में तभी सोचना चाहिए जब मरीज के लिए कोई खतरा नजर आए. अगर कोई अन्य गंभीर बीमारी हो तब भी पहले उसके उपचार पर जोर देना चाहिए. दवा ऐसी चुनी जाए जिसमें वजन बढ़ने या घटने के लक्षण हों तो वजन पर अपने आप कंट्रोल हो जाएगा.

इन दवाओं के साथ प्रॉपर वर्क आउट भी जरूरी है. वर्क आउट यानी एक और टॉर्चर नहीं – बस, उतना ही जितनी आपकी क्षमता हो. आपके शरीर के हिसाब से सही हो. प्रोफेशनल गाइडेंस में वर्क आउट ठीक रहता है.

इसे भी पढ़ें: होम्योपैथी में बुखार के लिए सबसे अच्छी दवा कौन सी है?
इसे भी जानें:हर मर्ज का तो नहीं लेकिन हर मरीज का इलाज जरूर है होम्योपैथी में

चेतावनी/CAUTION: कृपया योग्य डॉक्टर की सलाह के बगैर कोई दवा न लें. ऐसा करना सेहत के लिए नुकसानदेह हो सकता है.

  • होम्योपैथी को लेकर लेटेस्ट पोस्ट से अपडेट रहने के लिए #हैनिमन कैफे के फेसबुक पेज को लाइक करें.
  • ट्विटर के जरिये लेटेस्ट अपडेट के लिए @HahnemannCafé को फॉलो करें.
  • अगर आपको लगता है कि यहां दी गई जानकारी आपके किसी रिश्तेदार, मित्र या परिचित के काम आ सकती है तो उनसे जरूर शेयर करें.
  • अपने सुझाव, सलाह या कोई और जानकारी/फीडबैक देने के लिए हमारा CONTACT पेज विजिट करें.