हैनिमन कैफे के शुरू हुए हफ्ते भर हुए होंगे. हमने देखा हमारे एक विजिटर फेसबुक पर जो भी पोस्ट पड़ते लाइक जरूर करते. दो-चार दिन तक लगातार वो ऐसा करते रहे. तब हमारा जोर ऐसी पोस्ट हुआ करता कि लोगों में होम्योपैथी को लेकर जो भ्रम या धारणाएं बन गयी हैं उनके बारे में सही जानकारी दी जाये.

दवा कैसे लेनी चाहिये, परहेज क्या करने चाहिये, एलोपैथिक दवाओं के साथ होम्योपैथी की दवाएं लेना ठीक है या नहीं – हम ऐसे ही सवालों के जवाब तलाशते और आप सभी से शेयर करते रहे.

वो महोदय एक दिन किसी बीमारी के बारे में पूछे और उसका इलाज बताने का आग्रह भी किये. हमारी कोशिश तो यही रहती कि किसी को निराश न होना पड़े. हमारे पास लोगों के ढेरों सवाल आते, फिर हम उनके जवाब जरूर देते जिन्हें एक साथ कई लोगों ने पूछा होता.

आज भी हम इसी स्टैंड पर कायम हैं. व्यावहारिक भी यही है. किसी सार्वजनिक मंच पर निवारण की कोशिश तो उसी तकलीफ की होनी चाहिये जिससे ज्यादा से ज्यादा लोग प्रभावित हों. बहुमत के सवालों के चक्कर में उन महोदय का सवाल छूट जाता.

एक दिन वो आपे से बाहर हो गये. टिप्पणी में लिखा – ‘आप सिर्फ अपनी चलाते हो. किसी के सवाल का जवाब नहीं देते. किसी बीमारी का इलाज नहीं बताते.’
लगे हाथ उन्होंने ये भी जानकारी दी कि आगे से न तो वो हैनिमन कैफे के पोस्ट पढ़ेंगे और न ही कभी कोई सवाल पूछेंगे या कमेंट करेंगे. साथ ही बताया कि वो अपने टाइमलाइन पर हैनिमन कैफे का पेज ब्लॉक भी करने जा रहे हैं.

हमारे लिए ये तकलीफदेह बात रही. हमने मन ही मन क्षमा मांगी और इंतजार करने लगे कि जब कुछ और लोग वो सवाल पूछें तो उनके जवाब जरूर दिये जायें.

ये हमारी खुशकिस्मती रही कि उन महोदय का गुस्सा ज्यादा दिन नहीं टिक पाया. हमने फिर से उन्हें अपने उसी सवाल के साथ फेसबुक के कमेंट सेक्शन में मौजूद पाया. अच्छी बात ये रही कि तब तक वैसा सवाल और भी लोग पूछ चुके थे और हमने रिसर्च और एक्सपर्ट से बात करके उस टॉपिक पर एक पोस्ट पब्लिश भी कर दिया.

हम उम्मीद करते हैं उन सभी लोगों को ये पोस्ट पढ़ कर राहत जरूर मिली होगी जिनके सवालों के अभी तक जवाब नहीं मिल पाये हैं. ये कहानी जानने के बाद उन सभी को मालूम हो गया होगा कि उनके सवालों के जवाब अब तक क्यों नहीं मिले और ये यकीन भी हो गया होगा कि जवाब जरूर मिलेंगे. यहां भी देर है, पर अंधेर नहीं. संसाधनों को लेकर हमारी भी कुछ मजबूरियां हैं, मगर कोशिशों में कमी नहीं करते. अब तक हमारे साथ बने रहने के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया.

[यह लेख Allen’s Keynotes, रिसर्च और अनुभवी होम्योपैथिक डॉक्टर से बातचीत पर आधारित है.]

Also Read These :  

एसिडिटी, बदहजमी और पेट में गैस बने तो ये हैं 5 कारगर दवाएं
इन 5 दवाओं की जरूरत किसी को भी कभी भी पड़ सकती है

चेतावनी/CAUTION: कृपया योग्य डॉक्टर की सलाह के बगैर कोई दवा न लें. ऐसा करना सेहत के लिए नुकसानदेह हो सकता है.

  • होम्योपैथी को लेकर लेटेस्ट पोस्ट से अपडेट रहने के लिए #हैनिमन कैफे के फेसबुक पेज को लाइक करें. ट्विटर के जरिये लेटेस्ट अपडेट के लिए @HahnemannCafé को फॉलो करें.
  • अगर आपको लगता है कि यहां दी गई जानकारी आपके किसी रिश्तेदार, मित्र या परिचित के काम आ सकती है तो उनसे जरूर शेयर करें.
  • अपने सुझाव, सलाह या कोई और जानकारी/फीडबैक देने के लिए हमारा CONTACT पेज विजिट करें.