August 2018
M T W T F S S
« Nov    
 12345
6789101112
13141516171819
20212223242526
2728293031  

Posts for Tag : परहेज

self help piles

सेल्फ हेल्प : पाइल्स से छुटकारा पाने वाले एक व्यक्ति की सक्सेस स्टोरी

मैं इलाज से थक चुका था. मैंने डॉक्टर की बतायी सभी सावधानियां बरतीं और दवाएं भी लीं मगर कोई सुधार नजर नहीं आया. दोपहर कम ही खूबसूरत होती है. उस दिन अचानक मुझे एक उपाय सूझी. मुझे अपने बचपन का वाकया याद आया. जब हमलोग बच्चे थे


homoeopathic hindi boooks

हिंदी में होम्योपैथी को समझने के लिए ये 2 किताबें पर्याप्त हैं

यहां हम सिर्फ दो किताबों का जिक्र करेंगे. ये दोनों ही किताबें होम्योपैथी के फंडामेंटल को समझाती हैं और प्रामाणिक ग्रंथ भी हैं. इनमें से एक तो खुद होम्योपैथी के संस्थापक डॉ. सैमुअल हैनिमन ने लिखा है – और दूसरी होम्योपैथी के अपने जमाने के बहुत बड़े एक्सपर्ट एच सी एलन ने.

Belladonna and Sulphur

आंखों की बिलनी से निजात दिलानेवाली ये हैं तीन दवाएं

अगर आंखों को वे अपना कार्यक्षेत्र बना लें फिर तो नींद ही नहीं जीना हराम कर देते हैं.
पलकों पर होने वाली ऐसी ही फुंसियों को बिलनी, गुहेरी या गुहाज्जनी भी कहते हैं. इनकी हर अवस्था बड़ी कष्टकारी होती है – जब निकल आएं, उनमें पस भर आए या फिर फूट कर पस बहने लगे.

BC-12_700

ये 5 बॉयोकेमिक दवाएं हर किसी के लिए बेहद उपयोगी हैं.

इन 12 बॉयोकेमिक दवाओं को मिलाकर कुछ 28 Bio Combinations तैयार किये गये हैं. इन्हीं में से पांच का हम यहां जिक्र कर रहे हैं जो हर किसी के काम आ सकती हैं.


1. Biocomb 01 – अगर शरीर में खून की कमी हो जाए तो होम्योपैथिक इलाज के साथ इसे भी लेने की डॉक्टर सलाह देते हैं.

NUX VOMICA

वेट लॉस का बेस्ट फॉर्मूला – मीठी गोलियां और भर पेट भोजन – बस और कुछ नहीं

संभावित दवाएं – अगर वजन सामान्य से ज्यादा है तो वो किसी बीमारी की वजह से हो सकता है. अगर सामान्य से कम है तो भी किसी न किसी रोग की वजह से ही होगा. इसलिए जरूरी है कि उस खास रोग के लिए उपाय किये जाएं – बाकी समस्या अपनेआप खत्म हो जाएगी.


काले घने और सुंदर बालों के लिए मीठी गोलियों की चार खुराक काफी है

अब अगर किसी वजह से बाल गिरने लगें या कम उम्र में ही सफेद हो जाएं तो उपचार जरूरी हो जाता है. सबको यही सलाह है कि कलर करने या कोई अन्य उपाय करने से पहले किसी क्वालिफाइड होम्योपैथ से जरूर संपर्क करें.


संभावित दवाएं
+ Lycopodium और Acid Phos –

faq homoeopathy

FAQ – 011 : दाद-खाज-खुजली से परेशान होने पर कौन सी होम्योपैथिक दवा लेनी चाहिए?

फंगल इंफेक्शन से होने वाली बीमारियां बड़ी तकलीफदेह होती हैं. कुछ दिन इलाज के बाद ऐसा लगता है कि बीमारी ठीक हो गयी है, लेकिन फिर से अचानक उसका पुराना रूप सामने आ जाता है.


Belladonna and Sulphur

हर चीज की तरह होम्योपैथी को भी अपनी हद है, अपनी ही थ्योरी के कारण

होम्योपैथी की खोज जिस समानता की थ्योरी पर हुई उसकी कुछ अपनी सीमाएं हैं. इसके तहत होम्योपैथिक रेमेडीज रोगी के शरीर में एक छद्म रोग की अवस्था (जब रोग बढ़ा हुआ या घटा हुआ प्रतीत होता है) पैदा कर देती है जिसके प्रभाव से असल रोग का प्रभाव खत्म हो जाता है. कुछ देर बाद छद्म रोग की अवस्था भी खत्म हो जाती है –

हर मर्ज का तो नहीं लेकिन हर मरीज का इलाज जरूर है होम्योपैथी में

ऐसे बहुत लोग मिलते हैं जो होम्योपैथी को बताते तो अच्छा हैं, पर उसी वक्त पूछते हैं – फलां बीमारी का इलाज है होम्योपैथी में?
निश्चित रूप से होम्योपैथी में इलाज तो है लेकिन किसी खास बीमारी का नहीं, बल्कि तकलीफ से तड़प रहे हर बीमार का. आइए इसे सरल तरीके से समझने की कोशिश करते हैं.

PRUNUS_700

हर मर्ज की कई दवाएं
होम्योपैथिक ट्रीटमेंट में रोग नहीं,

होम्योपैथी को लेकर भ्रम न पालें, पहले इस्तेमाल करें फिर विश्वास करें

होम्योपैथी को लेकर ढेरों मिथ (MYTHS) हैं – वजह जो भी हों आम लोगों में ये भ्रम व्याप्त है कि होम्योपैथी चिकित्सा में बड़े पेंच हैं. शायद, ये भी एक वजह है कि बहुत सारे लोग यूं ही होम्योपैथी से दूरी बनाए रखते हैं. आइए ऐसी ही कुछ बातों पर गौर करते हैं.

भ्रम: होम्योपैथिक दवाओं का असर धीरे धीरे होता है.

मीठी गोलियां कितनी कारगर – I

मीठी गोलियां कितनी कारगर हो सकती हैं? ये सवाल बहुत लोगों के मन में होता है कि मीठी गोलियों का भला कितना असर होगा? ऐसी आशंका स्वाभाविक है. जिस किसी ने भी होम्योपैथी को ठीक से समझा न हो – और न ही कभी तरीके से इलाज न कराया हो, उसके मन में धारणा तो ये रहेगी ही.

ऐसा तब भी हो सकता है जब आप किसी क्वालिफाइड प्रोफेशनल की बजाए किसी दोस्त,

जर्मन रेमेडीज ही क्यों, इंडियन क्यों नहीं?

आपने ध्यान दिया होगा अक्सर होम्योपैथिक फिजीशियन जर्मन रेमेडीज लेने की सलाह देते हैं. इंडियन दवाएं लेने की बात तब होती है जब महंगी जर्मन दवाएं लेना संभव न हो.
तो क्या इंडियन दवाएं ठीक नहीं होतीं. क्या इंडियन होम्योपैथिक रेमेडीज का असर नहीं होता. आइए एक वाकये से इसे समझने की कोशिश करते हैं.

घर में किसी को कुछ तकलीफ थी.

वर्ल्ड होम्योपैथिक डे – आज कुछ मीठा तो हो ही जाए

बनारस से हम लोग मडुवाडी-दिल्ली एक्सप्रेस में सवार हुए. हम दोनों की नीचे वाली बर्थ थी. ऊपर वाली दोनों बर्थ खाली थी. टीटीई ने बताया कि वो इलाहाबाद का कोटा है. हम लोग खा-पीकर सो गये.

आधी रात को कोटा पूरा होने का वक्त आ गया. जब हमारी नींद खुली तो दो लोग दिखे. एक आदमी सामान भी रख रहा था –

वर्ल्ड होम्योपैथिक डे की बधाई!

वर्ल्ड होम्योपैथिक डे की हैनिमन कैफे की ओर से बहुत बहुत बधाई. आपके जीवन में इतनी मिठास बनी रहे कि इलाज के लिए मीठी गोलियों की भी जरूरत न पड़े.[पूरा पढ़ें]



%d bloggers like this: